Uttarakhand CM उत्तराखंड के नए सीएम होंगे पुष्कर सिंह धामी रविवार को लेंगे शपथ

0
12
Uttarakhand CM उत्तराखंड के नए सीएम होंगे पुष्कर सिंह धामी रविवार को लेंगे शपथ
Uttarakhand CM उत्तराखंड के नए सीएम होंगे पुष्कर सिंह धामी रविवार को लेंगे शपथ

 

नई दिल्ली| उत्तराखंड में 11वें मुख्यमंत्री (Uttarakhand CM) के रूप में पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) शपथ लेंगे. चार महीने के भीतर ये तीसरे मुख्यमंत्री होंगे. चार महीने पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) के इस्तीफे के बाद तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) ने सीएम पद की शपथ ली थी. और अब तीरथ सिंह रावत के इस्तीफे के बाद पुष्कर सिंह धामी का नाम मुख्यमंत्री (Uttarakhand CM) के रूप में तय किया गया.

Sex Life शारीरिक सम्बन्ध बनाने के वक़्त रखे इन सभी बातों का खास ख्याल

इससे पहले बीजेपी विधायक दल की बैठक में पुष्कर सिंह धामी के नाम पर मुहर लगाई गई. फिर वह राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मिलने राजभवन पहुंचे और उन्होंने सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया.

तीरथ सिंह रावत के अचानक इस्तीफे के बाद उत्तराखंड में जारी सियासी हलचल के बीच धामी को आज शनिवार को नया सीएम बनाने पर सहमति बन गई. पुष्कर सिंह प्रदेश पुष्कर सिंह प्रदेश के 11वें मुख्यमंत्री (Uttarakhand CM) होंगे और रविवार को शपथ ग्रहण करेंगे.

Twitter

कौन हैं पुष्कर सिंह धामी?

ऊधम सिंह नगर की खटीमा विधानसभा सीट से दूसरी बार के विधायक पुष्कर सिंह धामी को उत्तराखंड का नया मुख्यमंत्री (Uttarakhand CM) बनाया गया है. 46 साल के धामी बीजेपी के युवा नेता हैं और उत्तराखंड में अभी तक बने सभी मुख्यमंत्रियों में सबसे युवा हैं. धामी का जन्म साल 16 सितंबर, 1975 को राज्य के सीमांत जिले पिथौरागढ़ की तहसील डीडीहाट के टुण्डी गांव में हुआ है. उनका ताल्लुक सैन्य परिवार से रहा है और वे तीन बहनों के भाई हैं. उनके पिता पूर्व सैन्य अधिकारी थे.

धामी की शुरुआती शिक्षा गांव में हुई और हायर एजुकेशन लखनऊ यूनिवर्सिटी से की है. पुष्कर धामी मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएट हैं. धामी को पूर्व मुख्यमंत्री (Uttarakhand CM) और वर्तमान में महाराष्ट्र और गोवा के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी का करीबी माना जाता है. लेकिन उनकी छवि एक निर्विवाद नेता की रही है. धामी के लिए उत्तराखंड के मुखिया की कुर्सी इतनी आसान नहीं रहने वाली है, क्योंकि उन्हें वरिष्ठ विधायकों के साथ ही ब्यूरोक्रेसी से भी सामंजस्य बनाना होगा. सरकार चलाने का कम अनुभव भी धामी के आड़े आ सकता है.

The Press Note

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here