Uddhav Thackeray एकनाथ शिंदे पर बड़ा हमला इस्तीफा देने के मीडिया के सामने आए उद्धव ठाकरे

0
9

 

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray )इस्तीफा देने के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए. प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि, ये जो कहा जा रहा है कि सीएम शिवसेना का है, वो गलत है. शिंदे शिवसेना के सीएम नहीं हैं. उद्धव ने कहा कि, सत्ता के लिए रातोंरात खेल किया जा रहा है.

सरकार जाने के बाद शिवसेना कार्यालय पहुंचे उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray )इस्तीफा देने के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए कहा कि सरकार गिराने के लिए आधी रात को खेल खेला गया। एकनाथ शिंदे शिवसेना के मुख्यमंत्री नहीं हैं। वह मुझे कुर्सी से उतार सकते हैं, लेकिन मेरे दिल से महाराष्ट्र नहीं निकाल सकते

महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे शुक्रवार को गोवा पहुंचे और अपने समर्थक विधायकों से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि वे कल विधायकों के साथ मुंबई में बैठक करेंगे. यानी शिंदे के अलावा बाकी के सभी बागी शनिवार को मुंबई पहुंचेंगे और मीटिंग में शामिल होंगे. नई सरकार ने 3 और 4 जुलाई को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है. शिदें सरकार इस दौरान अपना बहुमत साबित करेगी. इसके बाद होसकता है कि नए मंत्रिमंडल के लिए भी मंथन हो। इसमें तय होगा कि किसे मंत्री बनाया जाएगा.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शिंदे कैंप चिन्ह पर दावा ठोकने की तैयारी करता नजर आ रहा है. वहीं, उद्धव खेमा भी बगैर लड़े हार नहीं मानेगा. दरअसल, शिवसेना पर दावा पेश करने के लिए पार्टी के सभी पदाधिकारियों, राज्य के विधायकों, सांसदों का समर्थन जरूरी है. केवल विधायकों की ज्यादा संख्या होना पार्टी को मान्यता दिलाने के लिए काफी नहीं है.

दोनों गुटों का आयोग तक पहुंचना जरूरी है.एक बार मामला चुनाव आयोग तक पहुंचा को इलेक्शन सिंबल (रिजर्वेशन एंड एलॉटमेंट) ऑर्डर 1968 के आधार पर फैसला लिया जाएगा. आम धारणा यह है कि दो तिहाई विधायकों का समर्थन पार्टी की मान्यता के लिए काफी है. जबकि ऐसा नहीं है. गुट को चिन्ह हासिल करने के लिए बड़े स्तर पर समर्थन हासिल करने की जरूरत है.

Kanpur Voilance कानपुर फतराव और गोलीबारी में पीएफआई का हाथ, 24 गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here