February 29, 2024

The Press Note

A News Blog

Tehreek-e-Hurriyat Ban ‘तहरीक-ए-हुर्रियत’ आतंकी संगठन घोषित केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह

1 min read
Tehreek-e-Hurriyat Ban 'तहरीक-ए-हुर्रियत' आतंकी संगठन घोषित केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह

Tehreek-e-Hurriyat Ban 'तहरीक-ए-हुर्रियत' आतंकी संगठन घोषित केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह

Tehreek-e-Hurriyat Ban ‘तहरीक-ए-हुर्रियत’ आतंकी संगठन घोषित इस्लामी शासन स्थापित करने का था प्रयास, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह.

Tehreek-e-Hurriyat Ban कश्मीरी अलगाववादी पार्टी ‘तहरीक-ए-हुर्रियत’ को गैरकानूनी संगठन घोषित किया गया है, जैसा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बताया है। उन्होंने इसे गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत ‘गैरकानूनी संगठन’ के रूप में घोषित किया है। केंद्र सरकार का यह कदम एक और प्रयास है जिसका उद्देश्य कश्मीर में अलगाववाद और आतंकवाद के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करना है।

Bank Holidays In 2024 जाने किस माह बैंक में आधे महीने रहेगी छुट्टी

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने ‘तहरीक-ए-हुर्रियत’ (Tehreek-e-Hurriyat Ban)पर कार्रवाई की जो कुछ दिनों पहले ही घाटी के एक और संगठन को बैन करने का फैसला किया था, उसमें ऐतिहासिक संगठन ‘मुस्लिम लीग जम्मू कश्मीर (मसर्रत आलम गुट)’ शामिल था। सरकार ने 27 दिसंबर को इसे प्रतिबंधित आतंकी संगठन घोषित किया, जिसके नेता मसर्रत आलम भट भारत विरोधी एजेंडा को प्रोत्साहित करने में शामिल थे। इसके बाद से सरकार ने कई स्थानीय और अलगाववादी संगठनों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का एलान किया है, जिसका उद्देश्य कश्मीर में शांति और सुरक्षा स्थिति को मजबूती से बनाए रखना है।

Tehreek-e-Hurriyat Ban 'तहरीक-ए-हुर्रियत' आतंकी संगठन घोषित केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह
Tehreek-e-Hurriyat Ban ‘तहरीक-ए-हुर्रियत’ आतंकी संगठन घोषित केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह
Tehreek-e-Hurriyat Ban क्या था संगठन का मकसद

गृह मंत्री अमित शाह ने बताया कि ‘तहरीक-ए-हुर्रियत’ नामक आतंकी संगठन ने जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग करने की दिशा में गतिविधियों में शामिल होकर इस्लामिक शासन स्थापित करने का प्रयास किया था। उन्होंने कहा कि भारत सरकार आतंकी गतिविधियों के खिलाफ सख्ती से कदम उठा रही है और ‘तहरीक-ए-हुर्रियत’ जैसे विरोधी संगठनों को तत्काल खत्म कर दिया जाएगा। इससे साफ है कि सरकार का उद्देश्य है कश्मीर में सुरक्षा और शांति को सुनिश्चित करना और आतंकी संगठनों को नकारात्मक क्रियावली करना है।

 

केंद्रीय गृह मंत्री ने एक्स सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा किया, “तहरीक-ए-हुर्रियत, जम्मू-कश्मीर (TeH) को यूएपीए के तहत ‘गैरकानूनी संगठन’ के रूप में घोषित किया गया है। यह संगठन जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग करने और इस्लामिक शासन स्थापित करने की कोशिश में शामिल था। इस संगठन ने जम्मू-कश्मीर में अलगाववाद को बढ़ावा देने और भारत विरोधी प्रचार-प्रसार करने का कारण बनते हुए आतंकवादी गतिविधियों में भी सहयोग किया था।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *