Raipur रायपुर के अस्पताल में मरीज को लिखे रेमडेसिविर के 8 इंजेक्शन

0
47
Raipur रायपुर के अस्पताल में मरीज को लिखे रेमडेसिविर के 8 इंजेक्शन
Raipur रायपुर के अस्पताल में मरीज को लिखे रेमडेसिविर के 8 इंजेक्शन

Raipur रायपुर के अस्पताल में मरीज को लिखे रेमडेसिविर के 8 इंजेक्शन

Raipur। Remedisvir Injection In Chhattisgarh: कोरोना मरीजों के इलाज के नाम पर निजी अस्‍पताल परिवार वालों को परेशान कर रहे हैं। रेमडेसिविर इंजेक्‍शन की आड़ में लूट मची हुई है। अनावश्‍यक इंजेक्‍शन की मांग पर अब स्‍वास्‍थ्‍य विभाग भी सख्‍त हो गया है। रायपुर (Raipur) की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने निजी अस्पतालों को चेतावनी दे दी है। पत्र लिखकर कहा है कि रेमडेसिविर इंजेक्‍शन की अनावश्यक रूप से क्यों मांग की जा रही है।

Paranormal expert इंडि‍यन पैरानॉर्मल सोसायटी के सीईओ और फाउंडर गौरव तिवारी का निधन

सीएमएचओ डॉ. मीरा बघेल ने जिले के सभी निजी डेडीकेटेड कोविड-19 अस्पताल के संचालकों को पत्र लिखकर कोविड-19 उपचार में रेमडेसिविर इंजेक्शन की अनावश्यक मांग एवं उपयोग के संबंध में ध्यान आकर्षित किया है और मरीजों को उचित सलाह देने के निर्देश दिए।

रायपुर|(Raipur) की जलविहार कॉलोनी स्थित होराइजन अस्पताल ने एक कोरोना मरीज को रेमडेसिविर इंजेक्शन के आठ वॉयल लिख दिये। परिजनों की शिकायत के बाद रायपुर की CMHO डॉ. मीरा बघेल ने अस्पताल संचालक को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

बताया जा रहा है कि अस्पताल में भर्ती 77 वर्षीय कोरोना पीड़ित विद्यासागर जैन के लिये अस्पताल के डॉक्टर ने कुछ दवाएं लिखीं। इसमें 8 रेमडेसिविर इंजेक्शन भी शामिल थे। दवा की ऐसी मांग देखकर मरीज के परिजनों माथा ठनका। उन्होंने उस पर सवाल उठाये। उसके बाद अस्पताल में हंगामा हो गया। परिजनों की शिकायत के बाद रायपुर (Raipur) की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (CMHO) डॉ. मीरा बघेल ने अस्पताल को नोटिस जारी कर सोमवार तीन बजे तक जवाब मांगा है।

CMHO डॉ. मीरा बघेल

यह मामला सामने आने के बाद प्रशासन को संदेह है कि अतिरिक्त इंजेक्शन मंगाकर अस्पताल उसकी कालाबाजारी कर रहा है। CMHO ने अपनी नोटिस में पूछा है कि डॉक्टर ने रेमडेसिविर इंजेक्शन क्यों लिखा। एक मरीज के लिये 8 वॉयल इंजेक्शन क्यों लिखा गया। इससे प्रतीत हो रहा है कि कहीं रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी तो नहीं हो रही है।CMHO ने अस्पताल से पूछा है कि उनके यहां सरकार से कितने बिस्तरों की अनुमति है। ऐसे मरीज कितने हैं जिन्हें रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत है। क्या अस्पताल में यह इंजेक्शन उपलब्ध नहीं है। दवा की पर्ची के साथ मरीज की पॉजिटिव रिपोर्ट क्यों नहीं लगाई गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here