Presidential Election एकनाथ शिंदे और फडणवीस के सपोर्ट में अधिकांश शिवसेना MP
Presidential Election एकनाथ शिंदे और फडणवीस के सपोर्ट में अधिकांश शिवसेना MP

 

Presidential Election आगामी 18 जुलाई को देश के राष्ट्रपति पद (Presidential Election 2022) का चुनाव होना है जिसमें एनडीए (NDA) की तरफ से द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) को उम्मीदवार बनाया गया है। जबकि उनके विरोध में विपक्षी दलों द्वारा यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) को उम्मीदवार बनाया गया है। महाराष्ट्र (Maharashtra) में फिलहाल शिवसेना (Shivsena) ऐसे मोड़ पर खड़ी है। जहां एक तरफ खाई है तो दूसरी तरफ कुआं है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) इस वक़्त असमंजस की स्थिति से गुजर रहे हैं।

(Presidential Election 2022) उसके सामने एक तरफ पार्टी को बचाने की जिम्मेदारी है तो दूसरी तरफ अगर वह मुर्मू को समर्थन देते हैं तो महाविकास अघाड़ी (Maha Vikas Aghadi) से निकलना पड़ सकता है। इस बारे में मंगलवार सुबह शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान यह इशारा दिया है कि शिवसेना, द्रौपदी मुर्मू को अपना समर्थन दे सकती है। दरअसल राउत ने आज सुबह कहा कि मुर्मू को समर्थन देने का मतलब बीजेपी को समर्थन देना नहीं है।

राष्ट्रपति चुनाव (Presidential Election 2022) में शिवसेना अपने सांसदों के दबाव में एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को समर्थन दे सकती है। हालांकि अभी तक शिवसेना की ओर से कोई आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। लेकिन संजय राउत ने अपने एक बयान से संकेत दे दिया है।

शिवसेना सांसद संजय राउत ने मंगलवार सुबह मीडिया से कहा, “हमने अपनी बैठक में द्रौपदी मुर्मू (एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार) (Presidential Election 2022) पर चर्चा की। द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करने का मतलब भाजपा का समर्थन करना नहीं है। शिवसेना की भूमिका एक-दो दिन में साफ हो जाएगी। विपक्ष जिंदा रहना चाहिए।हमारे पास विपक्ष के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा के प्रति भी सद्भावना है। पहले हमने प्रतिभा पाटिल का समर्थन किया था, एनडीए उम्मीदवार का नहीं। हमने प्रणब मुखर्जी का भी समर्थन किया था। शिवसेना दबाव में फैसले नहीं लेती।”

बता दें कि कुछ दिन पहले राष्ट्रपति चुनाव (Presidential Election 2022) को लेकर मातोश्री में शिवसेना सांसदों की बैठक हुई थी, जिसमे सभी सांसदों ने द्रौपदी मुर्मू का समर्थन किया था। शिवसेना के 18 लोकसभा सांसदों में 16 ने बैठक में हिस्सा लिया था। माना जा रहा है कि कई सांसद भी शिंदे का समर्थन कर सकते हैं।

Twitter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here