President Oath भारत की 15वीं राष्ट्रपति बनीं द्रौपदी मुर्मू CJI ने दिलाई शपथ
President Oath भारत की 15वीं राष्ट्रपति बनीं द्रौपदी मुर्मू CJI ने दिलाई शपथ

 

President Oath द्रौपदी मुर्मू को देश की 15वीं राष्ट्रपति के तौर पर चीफ जस्टिस एनवी रमना ने शपथ दिलाई। वह देश की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति हैं। सुबह सवा 10 बजे द्रौपदी मुर्मू ने संसद भवन के सेंट्रल हॉल में देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद की शपथ ली। उन्हें 21 तोपों की सलामी दी गई।

Twitter

President Oath राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने 15वें राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद जैसे ही सभी को जोहार, ये कहते ही संसद का पूरा सेंट्रल हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। उनके इस शब्द को सुनते ही केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी मुस्कान के साथ जोर-जोर से ताली बजाकर उनका अभिनंदन किया। मुर्मू को देश के चीफ जस्टिस एनवी रमन ने शपथ दिलाई। मुर्मू ओडिशा के मयूरभंज जिले से देश के सर्वोच्च पद पर पहुंचने वाली पहली आदिवासी महिला बनी हैं। वह देश की दूसरी महिला और पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति बनी हैं।

President Oath मुर्मू ने शपथ लेने के बाद संसद भवन के केंद्रीय कक्ष में दोनों सदनों के नेताओं को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने जैसे ही जोहार शब्द कहा, पूरा कक्ष तालियों की गड़गड़ागट से गूंज उठा। केंद्रीय मंत्री इरानी तो काफी खुश दिख रही थीं। दरअसल, महिला राष्ट्रपति उम्मीदवार बनने की घोषणा के बाद ही इरानी ने इसका जोरदार स्वागत किया था। जैसे ही मुर्मू ने जोहार शब्द बोला तो इरानी बेहद खुश दिखीं। दरअसल, जोहार का मतलब नमस्कार होता है। आदिवासी इलाकों में इसका इस्तेमाल होता है।
मुर्मू के जय जोहरा शब्द ने कई संदेश दे दिए हैं। देश की पहली महिला आदिवासी राष्ट्रपति बनने का गौरव पाने वालीं मुर्मू ने जोहार शब्द से उस तबके को भी जोड़ा जिनसे उनका ताल्लुक है। इरानी की ताली और जोहार कई संदेश दे रहा है।

President Oath राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के शपथ समारोह में देश के सर्वोच्च पद के लोग शामिल हुए हैं। राजनेता, न्यायाधीश, ब्यूरोक्रेट्स, लेकिन इस समारोह में द्रौपदी ने अपने खास लोगों को निमंत्रण देकर बुलाया है। ओडिशा के मयूरभंज जिले से 64 लोग इस समारोह में शामिल हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here