February 29, 2024

The Press Note

A News Blog

OLA Electric IPO के लिए ड्राफ्ट जमा किया कंपनी ने योजना बनाई है 5,500 करोड़ रुपए के IPO का शुभारंभ, जिसमें फाउंडर 4.73 करोड़ शेयर बेचेंगे।

1 min read
OLA Electric IPO के लिए ड्राफ्ट जमा किया कंपनी ने योजना बनाई है 5,500 करोड़ रुपए के IPO का शुभारंभ, जिसमें फाउंडर 4.73 करोड़ शेयर बेचेंगे।

OLA Electric IPO के लिए ड्राफ्ट जमा किया कंपनी ने योजना बनाई है 5,500 करोड़ रुपए के IPO का शुभारंभ, जिसमें फाउंडर 4.73 करोड़ शेयर बेचेंगे।

OLA Electric की IPO कंपनी द्वारा 5,500 करोड़ रुपए का प्रस्तावित आईपीओ, फाउंडर्स बेचेंगे 4.73 करोड़ शेयर

OLA Electric ओला इलेक्ट्रिक ने IPO के लिए 5,500 करोड़ रुपए जुटाने की योजना बनाई है। कंपनी ने अपने ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) भी जमा कर दिया है, जिसमें 9.52 करोड़ शेयरों का ऑफर-फोर-सेल (OFS) शामिल है। कंपनी के फाउंडर भावेश अग्रवाल अपने व्यक्तिगत हिस्सेदारी को बढ़ाने के लिए 4.73 करोड़ शेयर बेचेंगे। इसके बावजूद, IPO की तारीखों को लेकर कोई आधिकारिक घोषणा अभी तक नहीं की गई है।

PMLA कोर्ट ने संजय सिंह के खिलाफ केस को मान्यता दी, मनी लॉन्ड्रिंग के पर्याप्त सबूत मिले

२००८ में जब बजाज ऑटो ने शेयर बाजार में अपनी लिस्टिंग की, तब से भारत में किसी भी दोपहिया निर्माता कंपनी ने IPO नहीं लाया था। इसलिए, आने वाला दोपहिया कंपनी का IPO यह बताएगा कि 15 सालों के इंतजार के बाद इस सेगमेंट में किसी नई मिलेनियम की शुरुआत हो रही है।

OLA Electric IPO के लिए ड्राफ्ट जमा किया कंपनी ने योजना बनाई है 5,500 करोड़ रुपए के IPO का शुभारंभ, जिसमें फाउंडर 4.73 करोड़ शेयर बेचेंगे।
OLA Electric IPO के लिए ड्राफ्ट जमा किया कंपनी ने योजना बनाई है 5,500 करोड़ रुपए के IPO का शुभारंभ, जिसमें फाउंडर 4.73 करोड़ शेयर बेचेंगे।
ओला इलेक्ट्रिक वर्तमान में इलेक्ट्रिक वाहनों की श्रेणी में एक बाजार नेता के रूप में उभरी है। कंपनी की मार्केट हिस्सेदारी नवंबर तक लगभग 32% थी। वाहन बेचने के आंकड़ों के अनुसार, इसने लगभग 30,000 यूनिट्स की बिक्री की थी।

DRHP क्या होता है?

DRHP (Draft Red Herring Prospectus) एक दस्तावेज़ होता है जो IPO की योजना बनाने वाली कंपनी के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है। इसे सेबी (सेक्यूरिटीज़ एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया) के पास जमा किया जाता है। इसमें कंपनी के वित्त, प्रमोटर, निवेश के जोखिम, अक्शंस के लिए फंड जुटाने के कारण, और फंड का उपयोग कैसे किया जाएगा, जैसी जानकारियां शामिल होती हैं।

कंपनियां क्यों लाती हैं IPO?

ब्रांडिंग की मदद: एक्सचेंज पर लिस्ट होने से कंपनी को अपनी ब्रांडिंग में मदद मिलती है। यह लोगों को वो कंपनी के बारे में ज्यादा जानने के लिए प्रेरित करता है।

जोखिमों का बंटवारा: शेयर खरीदने से आप भी कंपनी के जोखिम में हिस्सेदार बन जाते हैं, जैसा कि प्रमोटर होता है। जोखिम की मात्रा इस पर निर्भर करती है कि आपके पास कितने शेयर हैं। प्रमोटर अपने जोखिम को बहुत सारे लोगों के साथ बांटने में सफल हो जाता है।

कारोबार विस्तार के लिए: जब कोई कंपनी IPO लाने का फैसला करती है, तो यह आमतौर पर अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए पूंजी जुटाना चाहती है। इससे कंपनी को आवश्यक धनराशि मिलती है जो विस्तार के लिए जरूरी होती है और उसे कर्ज नहीं लेना पड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *