Narada Sting : अब शुभेंदु अधिकारी की गिरफ़्तारी पर सीबीआई पर सवाल ममता दीदी कर रही बवाल.

0
71
Narada Sting अब शुभेंदु अधिकारी की गिरफ़्तारी पर सीबीआई पर सवाल ममता दीदी कर रही बवाल.
Narada Sting अब शुभेंदु अधिकारी की गिरफ़्तारी पर सीबीआई पर सवाल ममता दीदी कर रही बवाल.

Narada Sting: अपने नेताओं की गिरफ़्तारी के बाद पश्चिम बंगाल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपने तृणमूल कार्यकर्ताओं के साथ पहुंची सीबीआई दफ्तर किया हंगामा.

बंगाल| पश्चिम बंगाल में नारदा स्टिंग (Narada Sting) मामले में ममता बनर्जी सरकार के दो मंत्रियों समेत चार नेताओं को सोमवार रात कोलकाता की प्रेसिडेंसी जेल भेज दिया गया. सीबीआई ने सोमवार को दिन में मंत्री सुब्रत मुखर्जी और फ़िरहाद हकीम, टीएमसी विधायक मदन मित्रा और पार्टी के पूर्व नेता शोभन चटर्जी को गिरफ़्तार किया था.सीबीआई इन नेताओं को उनके घरों से पूछताछ के लिए कोलकाता में निज़ाम पैलेस स्थित अपने दफ़्तर लेकर आई थी जहाँ उनको गिरफ़्तार कर लिया गया.शाम को सीबीआई की विशेष अदालत ने चारों नेताओं को अंतरिम ज़मानत दे दी थी मगर रात को कलकत्ता हाई कोर्ट ने इस फ़ैसले पर रोक लगा दी.

Corona-vaccine : वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के बाद सेक्स लाइफ हो में रही है दिक्कत.
Cyclone Tauktae कई प्रदेशों में छाए बादल तेज हवाओं के साथ बूंदाबांदी भी.

2016 के नारदा (Narada Sting) टेप केस में शिकायतकर्ता और वरिष्ठ पत्रकार मैथ्यू सैमुअल ने आज इस बात पर खुशी जाहिर की है कि उनके स्टिंग ऑपरेशन के आधार पर तृणमूल कांग्रेस के सुब्रत मुखर्जी और फिरहाद हकीम जैसे नेताओं को सीबीआई ने गिरफ्तार किया है। हालांकि, उन्होंने इस बात को लेकर असंतोष भी जाहिर किया है कि अब बीजेपी में शामिल हो चुके शुभेंदु अधिकारी जैसे नेताओं पर सबूत के बावजूद कार्रवाई नहीं की गई है।

खोजी पत्रकार और नारदा (Narada Sting) न्यूज के संस्थापक मैथ्यू ने एक वीडियो संदेश में कहा, ”यह खुशी का दिन है। कई साल हो गए। स्टिंग टेप 2016 में जारी किए गए थे। नेताओं को सीबीआई ने टच नहीं किया था। आरोपपत्र तीन साल पहले ही तैयार हो गया था।” 2016 में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से ठीक पहले नारदा न्यूज ने टीएमसी के कई नेताओं के वीडियो क्लिप जारी किए थे, जिसमें वे रिश्वत लेते दिखे थे। फर्जी कंपनी के नुमाइंदे बनकर नारदा के पत्रकार टीएमसी नेताओं के पास पहुंचे थे और उन्हें कैश लेते हुए कैमरे में कैद कर लिया था। 2017 में हाई कोर्ट ने सीबीआई जांच का आदेश दिया था। इन्हें नारदा टेप्स के नाम से जाना जाता है।

Tweet

सीबीआई ने आज टीएमसी के चार नेताओं सुब्रत मुखर्जी, फिरहाद हकीम, मदन मित्रा और सोवन चटर्जी को गिरफ्तार किया, जिस पर सियासी तूफान मच गया। खुद ममता बनर्जी कोलकाता में सीबीआई दफ्तर पहुंच गईं तो टीएमसी के आक्रोशित कार्यकर्ताओं ने पत्थरबारी शुरू कर दी। हकीम और मुखर्जी पश्चिम बंगाल में हाल ही में बनी ममता बनर्जी की नई सरकार में मंत्री हैं तो मित्रा विधायक हैं। चटर्जी टीएमसी के पूर्व विधायक हैं। शाम तक सभी नेताओं को कोर्ट से जमानत मिल गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here