Mann Ki Baat रेडियो प्रोग्राम मन की बात के माध्यम से देशवासियों को संबोधित किया.

0
55
Mann Ki Baat रेडियो प्रोग्राम मन की बात के माध्यम से देशवासियों को संबोधित किया.
Mann Ki Baat रेडियो प्रोग्राम मन की बात के माध्यम से देशवासियों को संबोधित किया.

 

नई दिल्ली, एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम (Mann Ki Baat)’मन की बात’ के जरिए देशवासियों को संबोधित करते हुए टोक्यो ओलिंपिक गए भारतीय दल का जिक्र किया। पीएम मोदी ने कहा कि टोक्यो ओलिंपिक में भारतीय ​खिलाड़ियों को तिरंगा लेकर चलते देख मैं ही नहीं पूरा देश रोमांचित हो उठा। पीएम मोदी ने कहा कि ये खिलाड़ी जीवन की अनेक चुनौतियों को पार करके यहां पहुंचे हैं। आज उनके पास आपके प्यार और सहयोग की ताकत है। साथ ही पीएम मोदी ने आजादी के 75 साल पूरे होने पर नेशन फर्स्ट, ऑलवेज फर्स्ट का नारा भी दिया। साथ ही कहा कि गांधी के भारत छोड़ो अभियान की तर्ज पर देश के लोग भारत जोड़ो अभियान चलाएं।

Mann Ki Baat 

-एक समय था जब छोटे छोटे निर्माण के काम में भी वर्षो लग जाते थे, लेकिन आज टेक्नोलॉजी की वजह से भारत मे स्थिति बदल रही है। फिलहाल देश में 6 अलग-अलग जगहों पर लाइट हाउस प्रोजेक्ट पर तेजी से काम चल रहा है। इनप्रोजेक्ट्स मेंआधुनिक तकनीक और इनोवेटिव तौर-तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है: पीएम मोदी

मन की बात (Mann Ki Baat)कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आप लोगों से मिला सुझाव ही ‘मन की बात’ की असली ताकत है।  आपके सुझाव ही मन की बात के माध्यम से भारत कि विविधिता को प्रकट करते हैं, भारवासियों के सेवा और त्याग के खुशबू को चारों दिशाओं में फैलाती हैं।  मन की बात में आप कई तरह के आइडिया भेजते हैं। हम सभी पर तो नहीं चर्चा कर पाते हैं, लेकिन उनमें से बहुत सुझावों को मैं संबंधित विभागों को जरूर भेजता हूं ताकि उन पर आगे का काम किया जा सके।

करगिल के वीरों को नमन करें- पीएम
पीएम ने कहा कि कल यानि 26 जुलाई को करगिल विजय दिवस भी है। करगिल का युद्ध भारत की सेनाओं के शौर्य और संयम का प्रतीक है। इस बार ये गौरवशाली दिवस भी अमृत महोत्सव के बीच मनाया जाएगा। इसलिए ये और भी खास हो जाता है मैं चाहूंगा कि आप सभी करगिल के रोमांचित कर देने वाली गाथा जरूर पढ़ें, करगिल के वीरों को हम सब नमन करें।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा (Mann Ki Baat), जिस तरह बापू (महात्मा गांधी) ने ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ की अगुवाई की थी, हर भारतीय को ‘भारत जोड़ो आंदोलन’ का नेतृत्व करना चाहिए। यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम इस तरीके से काम करें कि जिससे हमारे विविधताओं से भरे देश को एकजुट बनाने में मदद मिले। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें नेशन फर्स्ट, आलवेज फर्स्ट (देश पहले, हमेशा पहले) की धारणा के साथ आगे बढ़ना होगा।

The Press Note

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here