February 29, 2024

The Press Note

A News Blog

ISRO XPoSat Launch ब्लैक होल-न्यूट्रॉन स्टार की स्टडी करने वाला दूसरा देश बनेगा भारत

1 min read
ISRO XPoSat Launch ब्लैक होल-न्यूट्रॉन स्टार की स्टडी करने वाला दूसरा देश बनेगा भारत

ISRO XPoSat Launch ब्लैक होल-न्यूट्रॉन स्टार की स्टडी करने वाला दूसरा देश बनेगा भारत

 ISRO XPoSat Launch : इसरो ने रच दिया इतिहास, ब्लैक होल-न्यूट्रॉन स्टार की स्टडी करने वाला दूसरा देश बनेगा भारत

 ISRO XPoSat Launch इसरो ने साल के पहले अंतरिक्ष मिशन में एक्स-रे पोलारिमीटर सैटेलाइट (XPoSat) लॉन्च कर दिया है। इस मिशन के माध्यम से अमेरिका के बाद भारत ब्लैक होल (आकाशगंगा) और न्यूट्रॉन सितारों का अध्ययन करने के लिए एक विशेष सैटेलाइट भेजने वाला दुनिया का दूसरा देश बन जाएगा। सैटेलाइट को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च किया गया। इस मिशन के माध्यम से भारत ने विज्ञान और अंतरिक्ष अनुसंधान में एक और महत्वपूर्ण कदम बढ़ाते हुए अंतरिक्ष क्षेत्र में अपनी निरंतर प्रगति को सुनिश्चित किया है।

Ram Mandir Threat CM योगी, राम मंदिर समेत एसटीएफ चीफ मिली बम से उड़ाने की धमकी

इसरो ने एक जनवरी की सुबह 9.10 बजे ‘ISRO XPoSat Launch‘ (एक्सपोसैट) मिशन को सफलतापूर्वक लॉन्च किया। 2023 में चंद्रयान-3 मिशन और आदित्य एल-1 मिशन के बाद, इसरो ने इस साल स्पेस सेक्टर में अपना पहला कदम रखा है।

ANI

आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से लॉन्च किए गए इस मिशन के साथ ही भारत दुनिया का दूसरा ऐसा देश बन गया है, जिसने ब्लैक होल और न्यूट्रॉन स्टार्स का अध्ययन करने के लिए एक विशेष खगोलीय पर्यवेक्षण यान अंतरिक्ष में भेजा है। एक्सपोसैट एक तरह से अंतरिक्ष से ब्लैक होल और न्यूट्रॉन स्टार्स के बारे में अधिक जानकारी एकत्र करने के लिए एक शोध पर्यवेक्षण यान है।

ISRO XPoSat Launch ब्लैक होल-न्यूट्रॉन स्टार की स्टडी करने वाला दूसरा देश बनेगा भारत
ISRO XPoSat Launch ब्लैक होल-न्यूट्रॉन स्टार की स्टडी करने वाला दूसरा देश बनेगा भारत

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने 2021 में ‘इमेजिंग एक्स-रे पोलेरिमीटरी एक्सप्लोरर’ (IXPE) नामक मिशन को लॉन्च किया था। इस मिशन के माध्यम से वैज्ञानिक वर्तमान में ब्लैक होल सहित अंतरिक्ष में मौजूद अन्य वस्तुओं का अध्ययन कर रहे हैं। एक्सपोसैट नामक उपग्रह को पोलर सैटेलाइट लॉन्च वाहन के द्वारा अंतरिक्ष में स्थापित किया गया है। पीएसएलवी रॉकेट की सहायता से एक्सपोसैट उपग्रह को अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया गया है। यह उपग्रह पृथ्वी की निचली कक्षा में स्थापित किया जाएगा, जहां से पृथ्वी की दूरी 650 किमी होगी।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मुंबई के खगोलशास्त्री डॉ. वरुण भालेराव ने मिशन के दृष्टिकोण के बारे में बात करते हुए कहा कि नासा के 2021 के इमेजिंग एक्स-रे पोलेरिमीटरी एक्सप्लोरर (IXPE) मिशन के बाद यह अपनी तरह का दूसरा मिशन है। यह मिशन मृत तारों को समझने का प्रयास करेगा। एक्स-रे फोटोन और पोलराइजेशन की सहायता से एक्सपोसैट ब्लैक होल और न्यूट्रॉन सितारों के आसपास के विकिरण का अध्ययन करेगा।

डॉ. वरुण भालेराव ने बताया कि ब्रह्मांड में मौजूद ब्लैक होल एक ऐसा वस्तु है जिसका गुरुत्वाकर्षण बल सबसे अधिक होता है। वहीं, न्यूट्रॉन सितारों का घनत्व सर्वाधिक होता है। भारत अपने इस अंतरिक्ष मिशन के माध्यम से ब्रह्मांड के अत्यंत रहस्यमय क्षेत्रों का अध्ययन करेगा। एक्सपोसैट के अलावा, भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने POEM नामक मॉड्यूल भी अंतरिक्ष में भेजा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *