Baba Ramdev :बाबा रामदेव के खिलाफ दिल्ली HC पहुंची दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन.

नई दिल्ली/(Baba Ramdev)| एलोपैथी और आयुर्वेद को लेकर चल रहा विवाद अब दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) पहुंच गया है और दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन ने इसको लेकर याचिका दायर की है. डीएमए ने याचिका में बाबा रामदेव (Baba Ramdev) के खिलाफ केस दायर कर उन्हें कोरोनिल टैबलेट को लेकर झूठे दावे और गलत बयानबाजी करने से रोकने की अपील की गई है.

Sex Life शारीरिक सम्बन्ध बनाने के वक़्त रखे इन सभी बातों का खास ख्याल.
Jagannath Temple जगन्नाथ मंदिर के 9 रहस्य जिसका जवाब विज्ञान के पास भी नहीं है.

एलौपेथ को लेकर रामदेव (Baba Ramdev) ने पिछले दिनों कई बयान दिए। इससे खफा देशभर के डॉक्टर लगातार उनपर ऐक्‍शन की मांग कर रहे हैं। 1 जून को देशभर के रेजिडेंट डॉक्टर्स ने ‘काला दिवस’ मनाया था। एक वायरल वीडियो में रामदेव एलोपैथी चिकित्सा पद्धति को बेकार और तमाशा बताते नजर आए थे। इसके बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने गहरी नाराजगी जाहिर की थी।

महामारी का इलाज खोजने में समय लगाएं: कोर्ट (Baba Ramdev) 

सुनवाई के दौरान कोर्ट में काफी गर्मागर्म बहस हुई। अदालत ने डीएमए से कहा: “आप लोगों को अदालत का समय बर्बाद करने के बजाय महामारी का इलाज खोजने पर समय बिताना चाहिए।”

हालांकि डीएमए ने कोर्ट की टिप्पणियों परआपत्ति दर्ज की। उन्होंने कहा, “रामदेव (Baba Ramdev) की टिप्पणी डीएमए के सदस्यों को प्रभावित कर रही है। वह डॉक्टरों के नाम बुला रहे हैं। वह कह रहे हैं कि यह विज्ञान (एलोपैथी) नकली है। रामदेव (Baba Ramdev) जीरो प्रतिशत मृत्यु दर के साथ कोविड के इलाज के रूप में कोरोनिल का झूठा प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। यहां तक ​​कि सरकार ने उनसे इसका विज्ञापन नहीं करने के लिए कहा है। इस बीच, उन्होंने 250 करोड़ रुपए का कोरोनिल बेच दिया।”

अदालत ने तीखे जवाब में कहा, “कल, मुझे लग सकता है कि होम्योपैथी नकली है। यह एक राय है। इसके खिलाफ मुकदमा कैसे दायर किया जा सकता है? भले ही हम मान लें कि वह जो कह रहे हैं वह गलत या भ्रामक है, जनहित के तहत मुकदमा इस तरह दायर नहीं किया जा सकता है। यह एक जनहित याचिका (PIL) होनी चाहिए। ”

THE PRESS NOTE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here