एस्ट्राजेनेका की कोविड-19: डेनमार्क ने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के उपयोग पर लगाई रोक

0
24

डेनमार्क ने ऑक्सफ़र्ड-एस्ट्राज़ेनेका की कोविड वैक्सीन के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है.

एस्ट्राज़ेनेका की कोविड वैक्सीन के इस्तेमाल पर रोक लगने वाला पहला यूरोपीय देश बना डेनमार्क। डेनमार्क ने कुछ लोगों में रक्त के थक्के बनने की खबरों के बीच पिछले महीने इस टीके के उपयोग को स्थगित कर दिया था. डेनमार्क हेल्थ अथॉरिटी के निदेशक सोरेन ब्रॉस्ट्रॉम ने पत्रकारों को बताया, ‘डेनमार्क का टीकाकरण अभियान एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन के बिना आगे बढ़ेगा.

अधिकतर यूरोपीय देशों में एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन लग रही है लेकिन उम्रदराज लोगों पर इस वैक्सीन के इस्तेमाल को लेकर कुछ बंदिशें लगाई गई हैं.

वहीं मंगलवार को अमेरिका, कनाडा और यूरोपीयन यूनियन ने जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन के इस्तेमाल को भी इन्हीं कारणों से रोक दिया है.

दक्षिण अफ़्रीका में भी इन्हीं कारणों से जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन के इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है. कोरोना वायरस के दक्षिण अफ़्रीकी वैरिएंट पर जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन असरदार रही है और ये दक्षिण अफ़्रीका की पसंदीदा वैक्सीन है. बावजूद इसके ये रोक लगाई गई है.

डेनमार्क ने यह रोक वैक्सीन दिए जाने के बाद कुछ लोगों के शरीर में खून के थक्के जमने के बाद लगाई है। हालांकि, विशेषज्ञों का दावा है कि ऐसी घटनाएं काफी दुर्लभ हैं। बताया जा रहा है कि इस कदम से डेनमार्क में जारी वैक्सीनेशन प्रोग्राम को तगड़ा झटका लग सकता है। इस समय डेनमार्क में एस्ट्राजेनेका की 24 लाख कोविड वैक्सीन कई सेंटर्स पर मौजूद हैं, जिन्हें अब वापस लिया जा रहा है.

कोरोना पर CM अरविंद केजरीवाल ने किए बड़े ऐलान दिल्‍ली में वीकेंड कर्फ्यू

 इससे पहले यूरोपीय संघ आयोग की प्रमुख उर्सुला वॉन डेर लेयेन ने बुधवार को कोविड-19 टीकों के लिए फाइजर कंपनी के साथ करार बढ़ाने की योजनाओं की घोषणा की. इस करार की अवधि बढ़ाकर 2023 तक की जानी है. वॉन डेर लेयेन ने कहा कि यूरोपीय संघ (ईयू) 2023 तक फाइजर-बायोएनटेक की 1.8 अरब खुराक खरीदने के लिए बातचीत शुरू करेगा. फाइजर-बायोएनटेक कंपनी यूरोप के टीकाकरण अभियान का मुख्य आधार रही है.

वॉन डेर लेयेन ने फाइजर-बायोएनटेक टीके के लिए इस्तेमाल की जाने वाली तकनीक पर पूरा भरोसा जताया. यह तकनीक ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका टीका में प्रयुक्त तकनीक से अलग है. उन्होंने कहा कि हमें उन तकनीकों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है जिन्होंने अपना प्रभाव साबित कर दिया है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here