Ambergris मुंबई में 2.6 किलो एम्बरग्रीस के साथ युवक गिरफ्तार कीमत 2.67 करोड़ रुपये
Ambergris मुंबई में 2.6 किलो एम्बरग्रीस के साथ युवक गिरफ्तार कीमत 2.67 करोड़ रुपये

 

Ambergris पुलिस ने बुधवार को मुंबई में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। उसके पास से व्हेल की उल्टी बरामद की गई है, जिसकी कीमत 2.67 करोड़ है। व्हेल की उल्टी को एम्बरग्रीस या ग्रे एम्बर भी कहा जाता है। यह एक प्रतिबंधित समुद्री पदार्थ है। पुलिस ने बताया कि आरोपी को मरीज ड्राइव से पकड़ा गया है। उसे जेल भेज दिया गया है।

पुलिस ने बताया कि 25 वर्षीय वैभव कालेकर को मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने दक्षिण मुंबई के ट्राइडेंट होटल के पास से गिरफ्तार किया। अधिकारी ने कहा, ‘एक गुप्त सूचना के आधार पर उसे गिरफ्तार किया गया था कि वह अवैध रूप से एम्बरग्रीस बेचने की कोशिश कर रहा था। तलाशी के दौरान, अधिकारियों ने उसे 2.6 किलो एम्बरग्रीस(Ambergris)ले जाते हुए पाया।

Twitter

एम्बरग्रीस (Ambergris) क्या है?

यह स्पर्म व्हेल द्वारा निर्मित होता है और सदियों से इसका उपयोग किया जाता रहा है, लेकिन कई वर्षों से इसकी उत्पत्ति एक रहस्य बनी हुई है.

एम्बरग्रीस (Ambergris)सहस्राब्दियों से एक अनूठी घटना रही है. इस पदार्थ के जीवाश्म साक्ष्य लगभग 1.75 मिलियन वर्ष पहले के हैं, और ऐसी संभावना है कि मनुष्य 1,000 से अधिक वर्षों से इसका उपयोग कर रहे हैं. इसे ‘समुद्र का खजाना’ या ‘तैरता हुआ सोना’ भी कहा गया है.

एम्बरग्रीस, (Ambergris) जिसका अर्थ फ्रेंच में ग्रे एम्बर ( Gray amber) है. यह एक ठोस और मोम जैसा पदार्थ है जो स्पर्म व्हेल की आँतों से उत्पन्न होता है. हालांकि इसे ‘व्हेल की उल्टी‘ के रूप में भी संदर्भित किया जाता है. यह कहां से आता है यह वर्षों तक एक रहस्य बना रहा, जिसके दौरान कई सिद्धांत प्रस्तावित किए गए.

इसके गठन के सिद्धांतों में से एक यह बताता है कि यह कुछ स्पर्म या शुक्राणु व्हेल के जठरांत्र संबंधी मार्ग (Gastrointestinal tract) में कठोर, तेज (Sharp) वस्तुओं को पारित करने के लिए उत्पन्न होता है जो कि उनके द्वारा निगले जाते हैं जब व्हेल बड़ी मात्रा में समुद्री जानवरों को खाती है. यानी स्पर्म व्हेल बड़ी मात्रा में सेफलोपोड्स (Cephalopods) जैसे स्क्वीड (Squid) और कटलफिश (Cuttlefish) खाती हैं. ज्यादातर मामलों में उनके शिकार के अपचनीय तत्व, जैसे कि चोंच इत्यादि पचने से पहले ही उल्टी हो जाते हैं.

एम्बरग्रीस रसायनिक रूप से एल्कलॉइड, एसिड और एंब्रेन नामक एक विशिष्ट यौगिक होता है, जो कि कोलेस्ट्रॉल के समान होता है. जल निकाय की सतह के चारों ओर यह तैरता है और कभी-कभी तट के पास आकर इकठ्ठा भी हो जाता है. इसका मूल्य काफी ज्यादा होता है इसलिए इसे तैरता हुआ सोना कहा जाता है.

Odisha Rains मौसम विभाग ने अगले तीन दिन तक ओडिशा में भारी बारिश की चेतावनी दी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here