फ्रांस की सरकार का आदेश पाकिस्तान छोड़ दें सभी फ्रांसीसी नागरिक

0
47
फ्रांस की सरकार का आदेश पाकिस्तान छोड़ दें सभी फ्रांसीसी नागरिक
फ्रांस की सरकार का आदेश पाकिस्तान छोड़ दें सभी फ्रांसीसी नागरिक

पैगंबर मोहम्मद के कार्टून पर मचा बवाल.

बीते साल फ्रांस की एक मैगजीन में छपे पैगंबर मोहम्मद के एक कार्टून को लेकर पाकिस्तान में बवाल मचा हुआ है। देश की कट्टर इस्लामी पार्टी के समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन शुरू किया जिसके बाद छिड़ी खूनी जंग में सात लोगों की मौत हो चुकी है और सैकड़ों घायल हुए हैं। पाकिस्तान में बढ़ती हिंसा के मद्देनजर फ्रांस ने अपने नागरिकों और कंपनियों को जल्द से जल्द वहां से निकलने की सलाह दी है। रॉयटर्स की खबर के मुताबिक, फ्रांस ने अपने नागरिकों और कंपनियों को कहा है कि उन्हें कुछ समय के लिए पाकिस्तान से निकल जाना चाहिए क्योंकि वहां की स्थितियां पेरिस के हितों के लिए खतरा है।

इन हिंसक विरोध प्रदर्शनों की अगुवाई कर रहे कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के मुखिया साद रिजवी को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। उसके संगठन को भी हिंसा फैलाने के आरोप में आतंकवाद अधिनियम के तहत प्रतिबंधित किया जा चुका है। फिर भी पाकिस्तान के कई शहरों में हजारों लोग साद रिजवी की रिहाई को लेकर सड़कों पर हैं।

कोरोना के विदेशी वैक्सीन के लिए केंद्र सरकार ने देश के दरवाजे खोले

तहरीक-ए-लब्बैक ने फ्रांसीसी राजदूत को देश से निकालने की मांग के लिए सड़को पर भीड़ जुटा ली है। फ्रांस की पत्रिका ‘चार्ली हेब्दो’ में प्रकाशित किए गए मोहम्मद साहब के विवादित कार्टून के कारण पाकिस्तान के कट्टरपंथियों के बीच यह गुस्सा है। बता दें कि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के इस्लामिक आतंकवाद पर दिए गए बयान को लेकर भी पाकिस्तानी संसद में निंदा प्रस्ताव पारित किया जा चुका है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी गुलाम मोहम्मद डोगर ने बताया कि तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान के प्रमुख साद रिजवी को सोमवार को गिरफ्तार किया गया था. रिजवी ने धमकी दी थी कि अगर सरकार पैगंबर मोहम्मद का चित्र प्रकाशित किए जाने को लेकर फ्रांस के राजदूत को निष्कासित नहीं करती है, तो प्रदर्शन तेज किए किए जाएंगे.

इसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया और सोमवार से हिंसा शुरू हो गई. डोगर ने कहा कि स्थिति को नियंत्रण करने के प्रयास जारी हैं और जल्द ही सब कुछ सामान्य हो जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here